Poetry Fever

 माँ❤️ बाजरों में घूमते हुए एक कोने पर नज़र मेरी पड़ी। उदासियों से तपी हुई धूप में एक बूढ़ी माँ […]

  मैं बेटी मायके को बड़ी प्यारी थी, बाबा कि मैं दुलारी थी। मेरे ब्याह का सपना बड़ा था, मेरा […]

 हां मुझे उससे प्यार बहुत है। जीने के लिए मेरे ये बहार बहुत है। उसकी खुशबू में मदहोश रहता हूँ। […]

     हमारी वफाओं की ‘कीमत लगाई जा रही है,कुछ यूं हमारी मुहब्बत आज़माई  जा रही है. उनका’बहाना कि रेनोवेशन […]